Skip to main content

What are the Career options after 12th in Hindi




12वीं के बाद का भविष्य-कैसे करें केरियर का चुनाव?

एक समय था जब सीमित विकल्प होते थे इंजीनियरिंग, मेडिकल एवं सिविल सर्विसेस अच्छे विद्यार्थी इन्हीं की और रुख करते थे। लेकिन आज उसके समक्ष इतने विकल्प हैं की वह भ्रमित हो जाता है और अगर उसने सही तरीके से विषय का चुनाव नहीं किया तो उसका भविष्य ही दाँव पर लग जाता है। लेकिन कुछ बिंदु ऐसे हैं, जिन पर विचार करके आप अपनी इस उलझन को कम कर सकते हैं।

1. लक्ष्य पहले से सुनिश्चित कीजिये- 
आपको क्या बनना है इसकी सोच आपको पहले से ही सुनिश्चित कर लेनी चाहिए। जब लक्ष्य सुनिश्चित होता है, तो आप सही दिशा में आगे बढ़कर प्रयास करते हैं। वहीं, भ्रम आपको दिशाहीन कर देता है। इस समय देश में जिस तरह से नए-नए संस्थान खुल रहे हैं, वहां पढऩे वालों की तादाद बढ़ रही है, उसके मुताबिक शिक्षा का स्तर नहीं बढ़ा है। इसलिए हर साल महाविद्यालयों से हजारों की तादाद में तकनीकी या गैर तकनीकी स्नातकों के निकलने के बाद भी नौकरियां नहीं मिलती हैं। जहां तक सही कोर्स चुनने का सवाल है, तो छात्रों को सबसे ज्यादा शीघ्र नौकरी मिलने वाले क्षेत्रों का ध्यान रखना होगा।

2. अपने कैरियर की योजना बनायें-
आज क्षेत्र में प्रतिस्पर्धा बढ़ गयी है। व्यवसायिक विषयों में सीमित प्रवेश संख्या होती हैं, प्रतिस्पर्धियों की संख्या ज्यादा है। आपमें भले ही बहुत प्रतिभा या क्षमता हो, मेरिट हो, लेकिन मुमकिन है कि पसंद के कोर्स या कॉलेज में दाखिला न मिले। इसके लिए जरूरी है कि एक अलग योजना तैयार रहे। विकल्पों के लिए करियर काउंसलर, शिक्षकों, पुराने छात्रों या किसी की भी मदद ली जा सकती है।

3. सही विषय का करें चुनाव-
12वीं के बाद कोई खास कोर्स चुनना एक विद्यार्थी की रूचि और विकल्पों पर निर्भर करता है। अगर आप कलाकार या रचनाशील हैं, तो विज्ञापन, फैशन, डिजाइन जैसे कोर्सेज चुन सकते हैं। अगर आपका दिमाग विश्लेषक है, तो आपके लिए इंजीनियरिंग या टेक्नोलॉजी के क्षेत्र बेहतर होंगें। यहां बहुत सारे विशेषज्ञ कोर्सेज भी हैं, जिन्हें करने के बाद करियर में ऊंची उड़ान भर सकते हैं। ऐसे में छात्र जब भी किसी खास कोर्स या प्रोग्राम में दाखिला कराने जाएं, तो एक बात स्पष्ट रखें कि उस प्रोग्राम को चुनने के पीछे करने का उनका मकसद क्या है? फिर भी अगर भ्रम बना रहे, तो अपना प्रोफाइलिंग टेस्ट कराएं। इससे आपको अपनी शक्ति का पता लग सकेगा और आप उसके मुताबिक कोर्स सलेक्ट कर सकेंगे। 

कोर्स का चयन करते समय ध्यान रखने वाली बातें:
A. अपने पसंदीदा विषय को देखते हुए ही कोर्स चुनें। दूसरों की नकल से बचें, क्योंकि हर छात्र का लक्ष्य, प्रतिभा और रूचि अलग होती है।

B. स्व मूल्यांकन करें, कोई भी कोर्स का चुनाव करने से पहले यह आत्म निर्यण करना चाहिए कि आपकी किस काम में ज्यादा रूचि है। आप उन सभी विकल्पों की सूची बनाएं, जिनमें आप स्वयं को साबित कर सकते हैं।

3. विकल्प तलाशें। एक समय था जब विकल्प सीमित थे। विज्ञान विषय के छात्रों के पास सिर्फ मेडिकल या इंजीनियरिंग के विकल्प होते थे लेकिन अब वह दौर नहीं रहा। आज आपके सामने विकल्पों की भरमार है। आप बायोटेक्नोलॉजी, बायोइंजीनियरिंग, फिजियोथेरेपी, ऑक्युपेशनल थेरेपी, मेडिकल ट्रांसक्रिप्शन जैसे कोर्सेज कर सकते हैं। इसी तरह आर्ट्स से 12वीं करने वाले बिजनेस या होटल मैनेजमेंट कोर्स कर रिटेलिंग, हॉस्पिटैलिटी, टूरिज्म इंडस्ट्री का हिस्सा बन सकते हैं। जो लोग रचनाशील हैं, वे फैशन डिजाइनिंग, मर्चेंडाइजिंग, स्टाइलिंग का कोर्स कर सकते हैं।

4. संस्थान का चुनाव। आजकल संस्थानों में प्रवेश के लिए प्रवेश परीक्षा होती है लेकिन सरकारी एवं प्राइवेट संस्थानों में प्रवेश लेने से पहले निम्न बिंदुओं पर जरूर विचार कर लेवें।

संस्थान में प्रवेश लेने से पहले उसके बारे में जाानने वाली बातें:
A. पहले यह पता कर लेना चाहिए कि उस संस्थान को समुचित रेगुलेटरी अथॉरिटी से मान्यता हासिल है या नहीं।

B. फैकल्टी की गुणवत्ता।

C. प्रोफेसर, लेक्चरर और असिस्टेंट प्रोफेसर का अनुपात।

D. पाठ्यक्रम विविधता।

E. प्लेसमेंट या नौकरी मिलने का प्रतिशत।

F. मूलभूत सुविधाएँ।

विज्ञान वर्ग के छात्रों हेतु रोजगारपरक कोर्स:
विज्ञान वर्ग के विद्यार्थी मेडिकल यह इंजीनियरिंग के अलावा और भी बहुत से रोजगारपरक कोर्स कर सकते हैं। उनमें से प्रमुख कोर्स इस प्रकार हैं:
1. नैनो-टेक्नोलॉजी (Nanotechnology): 12वीं के बाद नैनो टेक्नोयलॉजी में बीएससी या बीटेक और उसके बाद इसी सब्जेक्टक में एमएससी या एमटेक करके इस क्षेत्र में शानदार करियर बनाया जा सकता है।

2. स्पेस साइंस (Space science): इसमें तीन साल की बीएससी और चार साल के बीटेक से लेकर पीएचडी तक के कोर्सेज खास तौर पर इसरो और बेंगलुरु स्थित IISC में कराए जाते हैं।

3. रोबोटिक साइंस (Robotic science): रोबोटिक में एमई की डिग्री हासिल कर चुके स्टूडेंट्स को इसरो जैसे प्रतिष्ठित संस्थाहन में रिसर्च वर्क की नौकरी मिल सकती है।

4. एस्ट्रो-फिजिक्स (Astrophysics): चार या तीन साल के बैचलर्स प्रोग्राम (बीएससी इन फिजिक्स) में एडमिशन ले सकते हैं. एस्ट्रोफिजिक्स में डॉक्टरेट करने के बाद स्टूडेंट्स इसरो जैसे रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन में साइंटिस्ट बन सकते हैं।

5. डेयरी साइंस (Dairy science): 12वीं करने के बाद स्टूडेंट ऑल इंडिया बेसिस पर एंट्रेंस एग्जाम पास करने के बाद चार वर्षीय स्नातक डेयरी टेक्नोलॉजी के कोर्स में एडमिशन ले सकते हैं. कुछ इंस्टीट्यूट डेयरी टेक्नोलॉजी में दो वर्षीय डिप्लोमा कोर्स भी ऑफर करते है।

6. एनवायर्नमेंटल साइंस (Environmental science): इसके तहत इकोलॉजी, डिजास्टर मैनेजमेंट, वाइल्ड लाइफ मैनेजमेंट, पॉल्यूशन कंट्रोल जैसे विषय पढ़ाए जाते हैं। नौकरी की अच्छी संभावनाएं हैं।

7. माइक्रो-बायोलॉजी (Microbiology): बीएससी इन लाइफ साइंस या बीएससी इन माइक्रो-बायोलॉजी कोर्स कर सकते हैं।

8. वॉटर साइंस (Water science): यह जल की सतह से जुड़ा विज्ञान है. इसमें हाइड्रोमिटियोरोलॉजी, हाइड्रोजियोलॉजी, ड्रेनेज बेसिन मैनेजमेंट, वॉटर क्वॉलिटी मैनेजमेंट, हाइड्रोइंफॉर्मेटिक्स जैसे विषयों की पढ़ाई करनी होती है।

कॉमर्स/आर्ट वर्ग के छात्रों हेतु रोजगारपरक कोर्स:
कामर्स एवं आर्ट्स के लिए ही परम्परागत कोर्सस से है कर कई ऐसे व्यवसायिक क्षेत्र है जिनमे प्रवेश लेने के बाद आप विज्ञानं के छात्रों से बेहतर भविष्य का निर्माण कर सकते हैं।

1. फुटवियर डिजाइन एंड डेवलपमेंट इंस्टीट्यूट (Footwear design and development institute) के फैशन, डिजाइन, रिटेल और मैनेजमेंट के ग्रेजुएट तथा पोस्ट ग्रेजुएट कोर्सेस के लिए ऑनलाइन सिलेक्शन टेस्ट होता है। इस टेस्ट के द्वारा 1680 सीटों पर प्रवेश दिया जाता है। इस टेस्ट के माध्यम से फुटवियर डिजाइन एंड प्रोडक्शन मैनेजमेंट (Footwear design and production management), लेदर गुड्स एंड एसेसरीज डिजाइन (Leather goods and accessories designing), फैशन डिजाइनिंग (Fashion designing) के ग्रेजुएट कोर्स में तथा एमबीए इन फैशन मर्केटिंग एंड रिटेल मैनेजमेंट (Fashion marketing and retail management), एमबीए इन फुटवियर डिजाइन एंड प्रोडक्शन मैनेजमेंट (Footwear design and production management), एम. डिजाइन के पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स में प्रवेश दिया जाता है।

2. कुछ होटल मैनेजमेंट संस्थान फूड प्रोडक्शन (Food production) में सर्टिफिकेट कोर्स की सुविधा भी देते हैं। भारत सरकार के 12 खाद्य संस्थान भी इससे संबंधित कोर्स कराते हैं, जिन्हें करने के बाद आप न केवल शेफ बल्कि होटल उद्योग से जुडे अन्य क्षेत्रों में भी कॅरियर बना सकते हैं। होटल मैनेजमेंट एवं कैटरिंग क्षेत्र में कॅरियर बनाने के इच्छुक युवाओं को बारहवीं उत्तीर्ण होना आवश्यक है। कई संस्थानों में दाखिले से पहले लिखित परीक्षा एवं साक्षात्कार भी लिया जाता है।

3. स्टॉक ब्रोकर (Stock broker) बनने के लिए कम से कम वाणिज्य विषय में स्नातक (अन्य विधा के छात्रों के लिए भी रोक नहीं है) होना चाहिए। यदि आपको वित्त, व्यापार, अर्थशास्त्र, कैपिटल मार्केट अकाउंट व इन्वेस्टमेंट आदि की अच्छी समझ है तो आप अपने कॅरियर की शुरुआत किसी स्टॉक ब्रोकिंग फर्म से जुड़कर कर सकते हैं।

4. आर्ट्‌स विषय पढ़ने वाले अधिकतर स्टूडेंट्स वैसे तो सिविल सर्विस की तैयारी में जुटे रहते हैं, लेकिन इसके अतिरिक्त, प्रोफेशनल तौर पर एमबीएजर्नलिज्म (journalism), मार्केट एनालिसिस(market analysis), टीचिंग (teaching), एंथ्रोपोलॉजी(anthropologie), ह्यूमन रिसोर्स (human resource),एमएसडब्लू (MSW) आदि क्षेत्रों में भी काफी केरियर के विकल्प मौजूद हैं।

12वीं के बाद आयोजित होने वाली प्रमुख प्रतियोगिता परीक्षाएं:

A. इंजीनियरिंग प्रतियोगिता परीक्षाएं: Competitive exam for engineering students
1 BITSAT http://www.bitsadmission.com
2 COMED-K https://www.comedk.org/
3 IPU-CET (B. Tech) www.ipu.ac.in
4 Manipal (B. Tech) www.admissions.manipal.edu
5 VITEEE www.vit.ac.in
6 AMU (B. Tech) http://www.amucontrollerexams.com/
7 NDA Entrance with PCM (MPC)
8 jee main exam http://www.jeemain.nic.in

B. मेडिकल प्रतियोगिता परीक्षाएं: Competitive exams for medical students
1. All India Pre-Medical / Pre - Dental Entrance Test (AIPMT)
2. All India Pre-Veterinary Test (AIPVT)
3 AIIMS http://aiimsexams.org/
4 CMC-Vellore http://admissions.cmcvellore.ac.in/
5 CMC-Ludhiana http://cmcludhiana.in/
6 COMED-K https://www.comedk.org/
7 JIPMER http://jipmer.edu.in/
8 Manipal (MBBS) www.admissions.manipal.edu
9 MGIMS-Wardha http://www.mgims.ac.in/
10 AMU (MBBS) http://www.amu.ac.in/
11 BHU Medical http://bhuonline.in/

C. मरीन, नेवी एवं डिफेन्स प्रतियोगिता परीक्षाएं : Competitive exams for defence
1 Indian Maritime University Common Entrance Test
2 Indian Navy B.Tech Entry Scheme
3. Indian Navy Sailors Recruitmen
4. Indian Army Technical Entry Scheme (TES)
5. National Defence Academy and Naval Academy Examination (I)

D. फैशन एवं डिज़ाइन प्रतियोगिता परीक्षाएं : Competitive exams for fashion designing
1. National Institute of Fashion Technology (NIFT) Entrance Test
2. National Institute of Design Admissions
3. All India Entrance Examination for Design (AIEED)
Other Design Schools & Exams
  1 Srishti School
  2 School of Fashion Technology
  3 Pearl Academy
  4 Symbiosis Institute of Design
  5 Footwear Design and Development Institute
  6 Maeer's MIT Institute of Design
  7 National Institute of Design
  8 National Institute of Fashion Design
  9 National Aptitude Test in Architecture
  10 Center for Environmental Planning and Technology (CEPT)

4. कला एवं सामाजिक विज्ञान सम्बंधी प्रतियोगिता परीक्षाएं: Competitive exams for arts students
1. IIT Madras Humanities and Social Sciences Entrance Examination (HSEE)
2. TISS Bachelors Admission Test (TISS-BAT)

5. भाषा सम्बंधी प्रतियोगिता परीक्षाएं : Language competitive examinations
1. The English and Foreign Languages University Hyderabad Entrance Test
2. JNU Admission Entrance Exam

6. कृषि एवं होटल प्रबंधन सम्बंधी प्रतियोगिता परीक्षाएं: Agriculture management, hotel management examafter 12th
1. Indian Council of Agricultural Research ICAR AIEEA-UG-PG
2. All India Hotel management Entrance Exam NCHMCT JEE

7. कानून सम्बंधी प्रतियोगिता परीक्षाएं: Competitive exams for law students
1. Common Law Admission Test
2. Law School Admission Test LSAT India
3. All India Law Entrance Test (AILET)
4. Lloyd Entrance Test (LET)

8. विज्ञान सम्बंधी प्रतियोगिता परीक्षाएं : Competitive exams for science students
1. Kishore Vaigyanik Protsahan Yojana (KVPY)
2. National Entrance Screening Test (NEST)

9. गणित सम्बंधी प्रतियोगिता परीक्षाएं : Competitive exams for maths students
1. Indian Statistical Institute Admission
2. Chennai Mathematical Institute Scholars


Comments

Popular posts from this blog

क्या है ‘उद्योग आधार’ नंबर, छोटे कारोबारियों के लिए कैसे है फायदेमंद

सरकार ने कम पूंजी में अपना कारोबार
शुरू करने वालों के लिए रजिस्ट्रेशन कराना आसान
बना दिया है। इसके लिए सरकार ने उद्योग आधार
की शुरुआत की है। दरअसल यह सुविधा छोटे और
मध्यम दर्जे के कारोबारियों को मिलेगी। जिससे
कारोबारियों को रजिस्ट्रेशन कराने से लेकर के
प्रोडक्शन करने तक 11 जरूरी फॉर्म भरने के झंझट से
छुटकारा मिल जाएगी। क्योंकि माइक्रो, स्मॉल
एंड मीडियम इंटरप्राइजेज (एमएसएमई) मंत्रालय छोटे
और मझोले कारोबारियों को यह सुविधा मुफ्त में
मुहैया करा रही है। एमएसएमई मंत्रालय को उम्मीद है
कि ‘उद्योग आधार’ नंबर की शुरुआत ईज ऑफ डुइंग
बिजनेस के लिए एक बेहतर टूल साबित होगा। इसके
जरिए रजिस्ट्रेशन कराने के बाद कारोबारी सरकार
की योजनाओं का बेहतर लाभ उठा पाएंगे।
क्या है ‘उद्योग आधार ’ नंबर
छोटे और मध्यम दर्जे के कारोबारियों को नया
कारोबार शुरू करने के लिए ऑनलाइन अथवा
ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन कराने की जो सुविधा दी गई
है उसे ‘उद्योग आधार’ नाम दिया गया है। ताकि,
एमएसएमई के लिए कारोबार करना न केवल आसान
हो, बल्कि वे अपना करोबार को बढ़ाना भी चाहें
तो सरकार की ओर से उन्हें हरसंभव सहायता उपलब्ध
कराई जा सके। इसके तह…

जानिए, क्या है मोबाइल वॉलेट, इससे ट्रांजेक्शन कैसे है आसान...

भारत में जिस तरह ऑनलाइन शॉपिंग
का क्रेज बढ़ रहा है उसी तरह मोबाइल वॉलेट का
भी इस्तेमाल लगातार बढ़ रहा है। क्योंकि, इसके
जरिए ऑनलाइन शॉपिंग करते वक्त ग्राहकों को पेमेंट
करने में सुविधा होती है। इसकी वजह से परचेजिंग
करने वालों को खुले पैसे देने के झंझटों से छुटकारा
मिलता है। वहीं, मोबाइल वॉलेट के जरिए आप पैसा
किसी को देश के किसी भी हिस्से में भेज सकते हैं।
क्योंकि, इसके लिए आपको बैंक जाने की जरूरत नहीं
होती है। इसके अलावा इसकी वजह से कैश कैरी करने
की जरूरत नहीं पड़ती है।
आरबीआई के द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक
साल 2013-14 में कुल एक हजार करोड़ रुपए का लेनदेन
किया गया। लेकिन अगले 2 साल के भीतर यह
आकंड़ा आठ गुणा हो गया। साल 2014-15 में
मोबाइल वॉलेट के जरिए करीब 8,200 करोड़ रुपए का
लेनदेन किया गया।
क्या होता है मोबाइल वॉलेट
मोबाइल वॉलेट स्मार्ट फोन पर उपलब्ध एक डिजिटल
वॉलेट की सुविधा है। जहां रुपए को डिजिटल मनी
के रूप में स्टोर किया जाता है। खरीददारी के
दौरान इस वॉलेट के जरिए पेमेंट किया जाता है।
सामान्य शब्दों हम कह सकते हैं कि मोबाइल वॉलेट
एक डिजिटल पर्स की तरह है जिसके जरिए पैसे की
ले…

जानिए, क्या है WTO और इंटरनेशनल ट्रेड में इसकी भूमिका....

केन्या की राजधानी नैरोबी में वर्ल्ड
ट्रेड ऑर्गेनाइजेशन (डब्ल्यूटीओ) की 10वीं
मिनिस्टीरियल बैठक में हुई प्रगति को लेकर भारत
संतुष्ट नहीं है। क्योंकि स्टॉकहोल्डिंग, फूड
सब्सिडी जैसे विवादस्पद मुद्दों पर भी कोई प्रगति
संभव नहीं हुई। दोहा डेवलपमेंट एजेंडे (डीडीए) के
भविष्य को लेकर भी अनिश्चितता कायम है।
विकसित और विकासशील देशों के बीच इस तकरार
से एक बार फिर डब्ल्यूटीओ की भूमिका पर चर्चा
गरम हो गई है। आइए हम आपको डब्ल्यूटीओ के कार्य
और उद्देश्य के बारे में विस्तार से बताते हैं।
क्या है डब्ल्यूटीओ
वर्ल्ड ट्रेड ऑर्गेनाइजेशन ( डब्ल्यूटीओ) ट्रेड के मामले में
विश्व की प्रमुख संस्था है, जो सदस्य देशों के बीच
होने वाले व्यापार के नॉर्म्स तय करता है। नए
व्यापार समझौतों को लागू करने के साथ ही लिए
भी डब्ल्यूटीओ उत्तरदायी है। भारत भी डब्ल्यूटीओ
का एक सदस्य देश है।

डब्ल्यूटीओ की स्थापना
वर्ल्ड ट्रेड ऑर्गेनाइजेशन की स्थापना 15
अप्रैल, 1994 को जनरल एग्रीमेंट ऑन टेरिफ एंड
ट्रेड (गेट) के स्थान पर की गई थी। गेट
की स्थापना साल 1948 में तब हुई
थी, जब 23 देशों ने कस्टम टैरिफ कम करने के लिए
हस्ताक्षर किए थे। …

Archive

Support us

Total Pageviews

CONTACT

Name

Email *

Message *