Skip to main content

CAREER IN FIELD OF PHARMACY

CAREER IN FIELD OF PHARMACY



Pharmacy is a well-respected profession in field of science and a desire to apply their knowledge of drug therapies to health care in a variety of settings.

Pharmacists are the "DRUG EXPERTS" among health care professionals. They understand how a drug heals and how it can hurt, how it reacts with foods and other drugs. They know its desired effects and its side effects.

Career options after completing B Pharm or M Pharm

1. Teaching - B Pharm first Class students are eligible to teach as lecturers in the D Pharm programme, where as M Pharm, first Class students can get a lecturer’s job in pharmacy degree colleges. It takes about 5 years to reach the grade of Sr. lecturer and about 10 years to become Assistant Professor and about 12 years to become Professor or a Principal of a college. While in teaching profession they can do research in pharmaceutical field and strive to become a well-known Research Scientist.

2. Pharmacist – Being in the health-related field, the B Pharm graduate can be Health-system Pharmacist or Hospital Pharmacist or Community Pharmacist.

3. Quality Assurance Health Manager – The Pharmacy graduate can play an important role in the development of clinical care plans, can investigate adverse medication events and in some cases can suggest preventive measures. He can play a key role in spreading awareness amongst the people about AIDS and the preventive measures to be taken.

4. Medical Transcription - The B Pharm graduate can work with medical practitioners to maintain the patient treatment history, the drug to which he/she is allergic etc.

5. Analytical Chemist of Quality Control Manager – The pharmacy graduate can play a crucial role in controlling product quality. The drug and the Cosmetics Act (1945), Rules 71(1) and 76(1) says that the manufacturing activity should be taken up under the supervision of a technical man whose qualification should be B Pharm, B Sc, B Tech or medicine with Bio-Chemistry.

6. Sales and Marketing – Ambitious achievers with pleasant personality and good communication skills can opt for the job of Medical Sales Representative. The companies prefer pharmacy graduates for this job, as they have a good knowledge about the drug molecules, their therapeutic effects and the drug-drug interactions.

7. Clinical Research - B Pharm/ M Pharm degree holders can take up career in clinical research. The human testing phase is called the clinical trial. A pharmacist can work as clinical research associate or clinical pharmacist and can rise to the position of project manager. The clinical research associate plays an important role of monitoring and overseeing the conducts of clinical trials, which are conducted on healthy human volunteers. They have to see that the trials meet the international guidelines and the national regulatory requirements.

8. Data Manager - A pharmacist can seek employment as “Data Manager” to store the data in the computer and process it using software developed for the purpose.

9. Regulatory Manager - A pharmacy graduate can work as “Regulatory Manager” (RM) in companies and contract research organisation. As an RM he has to oversee regulatory documentation such as Clinical trial approval permission, marketing approval permission etc.

10. Career in Regulatory bodies - A Pharmacist can be absorbed in the Regulatory bodies like Food and Drug Administration. Pharmacist having experience in clinical trial centres can also work as an inspector to inspect the clinical trial process. For these government jobs the student needs to appear and pass the MPSC examination.

11. Biotechnology is a fast growing branch and the B Pharm graduates can opt for post graduate diploma programme in Bioinformatics.

12. They can handle the job of monitoring the conduct of clinical trials that are conducted on human volunteers. It is their responsibility to see that the clinical trials are carried out as per the international guidelines.

13. The B Pharm Science programme is considered as a paramedical programme. The B Pharm Science graduates can therefore work in hospitals as hospital pharmacist or community pharmacist.

14. Since they have a good knowledge of therapeutic effects of drugs and that of drug-drug interaction, they are more suitable for a job in clinical research. They can opt for the post of clinical pharmacist or clinical research associate in a clinical research laboratory.

Visit homepage for such valuable information

Comments

Popular posts from this blog

क्या है ‘उद्योग आधार’ नंबर, छोटे कारोबारियों के लिए कैसे है फायदेमंद

सरकार ने कम पूंजी में अपना कारोबार
शुरू करने वालों के लिए रजिस्ट्रेशन कराना आसान
बना दिया है। इसके लिए सरकार ने उद्योग आधार
की शुरुआत की है। दरअसल यह सुविधा छोटे और
मध्यम दर्जे के कारोबारियों को मिलेगी। जिससे
कारोबारियों को रजिस्ट्रेशन कराने से लेकर के
प्रोडक्शन करने तक 11 जरूरी फॉर्म भरने के झंझट से
छुटकारा मिल जाएगी। क्योंकि माइक्रो, स्मॉल
एंड मीडियम इंटरप्राइजेज (एमएसएमई) मंत्रालय छोटे
और मझोले कारोबारियों को यह सुविधा मुफ्त में
मुहैया करा रही है। एमएसएमई मंत्रालय को उम्मीद है
कि ‘उद्योग आधार’ नंबर की शुरुआत ईज ऑफ डुइंग
बिजनेस के लिए एक बेहतर टूल साबित होगा। इसके
जरिए रजिस्ट्रेशन कराने के बाद कारोबारी सरकार
की योजनाओं का बेहतर लाभ उठा पाएंगे।
क्या है ‘उद्योग आधार ’ नंबर
छोटे और मध्यम दर्जे के कारोबारियों को नया
कारोबार शुरू करने के लिए ऑनलाइन अथवा
ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन कराने की जो सुविधा दी गई
है उसे ‘उद्योग आधार’ नाम दिया गया है। ताकि,
एमएसएमई के लिए कारोबार करना न केवल आसान
हो, बल्कि वे अपना करोबार को बढ़ाना भी चाहें
तो सरकार की ओर से उन्हें हरसंभव सहायता उपलब्ध
कराई जा सके। इसके तह…

जानिए, क्या है मोबाइल वॉलेट, इससे ट्रांजेक्शन कैसे है आसान...

भारत में जिस तरह ऑनलाइन शॉपिंग
का क्रेज बढ़ रहा है उसी तरह मोबाइल वॉलेट का
भी इस्तेमाल लगातार बढ़ रहा है। क्योंकि, इसके
जरिए ऑनलाइन शॉपिंग करते वक्त ग्राहकों को पेमेंट
करने में सुविधा होती है। इसकी वजह से परचेजिंग
करने वालों को खुले पैसे देने के झंझटों से छुटकारा
मिलता है। वहीं, मोबाइल वॉलेट के जरिए आप पैसा
किसी को देश के किसी भी हिस्से में भेज सकते हैं।
क्योंकि, इसके लिए आपको बैंक जाने की जरूरत नहीं
होती है। इसके अलावा इसकी वजह से कैश कैरी करने
की जरूरत नहीं पड़ती है।
आरबीआई के द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक
साल 2013-14 में कुल एक हजार करोड़ रुपए का लेनदेन
किया गया। लेकिन अगले 2 साल के भीतर यह
आकंड़ा आठ गुणा हो गया। साल 2014-15 में
मोबाइल वॉलेट के जरिए करीब 8,200 करोड़ रुपए का
लेनदेन किया गया।
क्या होता है मोबाइल वॉलेट
मोबाइल वॉलेट स्मार्ट फोन पर उपलब्ध एक डिजिटल
वॉलेट की सुविधा है। जहां रुपए को डिजिटल मनी
के रूप में स्टोर किया जाता है। खरीददारी के
दौरान इस वॉलेट के जरिए पेमेंट किया जाता है।
सामान्य शब्दों हम कह सकते हैं कि मोबाइल वॉलेट
एक डिजिटल पर्स की तरह है जिसके जरिए पैसे की
ले…

जानिए, क्या है WTO और इंटरनेशनल ट्रेड में इसकी भूमिका....

केन्या की राजधानी नैरोबी में वर्ल्ड
ट्रेड ऑर्गेनाइजेशन (डब्ल्यूटीओ) की 10वीं
मिनिस्टीरियल बैठक में हुई प्रगति को लेकर भारत
संतुष्ट नहीं है। क्योंकि स्टॉकहोल्डिंग, फूड
सब्सिडी जैसे विवादस्पद मुद्दों पर भी कोई प्रगति
संभव नहीं हुई। दोहा डेवलपमेंट एजेंडे (डीडीए) के
भविष्य को लेकर भी अनिश्चितता कायम है।
विकसित और विकासशील देशों के बीच इस तकरार
से एक बार फिर डब्ल्यूटीओ की भूमिका पर चर्चा
गरम हो गई है। आइए हम आपको डब्ल्यूटीओ के कार्य
और उद्देश्य के बारे में विस्तार से बताते हैं।
क्या है डब्ल्यूटीओ
वर्ल्ड ट्रेड ऑर्गेनाइजेशन ( डब्ल्यूटीओ) ट्रेड के मामले में
विश्व की प्रमुख संस्था है, जो सदस्य देशों के बीच
होने वाले व्यापार के नॉर्म्स तय करता है। नए
व्यापार समझौतों को लागू करने के साथ ही लिए
भी डब्ल्यूटीओ उत्तरदायी है। भारत भी डब्ल्यूटीओ
का एक सदस्य देश है।

डब्ल्यूटीओ की स्थापना
वर्ल्ड ट्रेड ऑर्गेनाइजेशन की स्थापना 15
अप्रैल, 1994 को जनरल एग्रीमेंट ऑन टेरिफ एंड
ट्रेड (गेट) के स्थान पर की गई थी। गेट
की स्थापना साल 1948 में तब हुई
थी, जब 23 देशों ने कस्टम टैरिफ कम करने के लिए
हस्ताक्षर किए थे। …

Support us

Total Pageviews

CONTACT

Name

Email *

Message *