Skip to main content

10 Things You Didn’t Know About William Shakespeare


Shakespeare’s father held a lot of different jobs, and at one point got paid to drink beer.

The son of a tenant farmer, John Shakespeare was nothing if not upwardly mobile. He arrived in Stratford-upon-Avon in 1551 and began dabbling in various trades, selling leather goods, wool, malt and corn. In 1556 he was appointed the borough’s official “ale taster,” meaning he was responsible for inspecting bread and malt liquors. The next year he took another big step up the social ladder by marrying Mary Arden, the daughter of an aristocratic farmer who happened to be his father’s former boss. John later became a moneylender and held a series of municipal positions, serving for some time as the mayor of Stratford. In the 1570s he fell into debt and ran into legal problems for reasons that remain unclear.

Shakespeare married an older woman who was three months pregnant at the time.

In November 1582, 18-year-old William wed Anne Hathaway, a farmer’s daughter eight years his senior. Instead of the customary three times, the couple’s intention to marry was only announced at church once—evidence that the union was hastily arranged because of Anne’s eyebrow-raising condition. Six months after the wedding, the Shakespeares welcomed a daughter, Susanna, and twins Hamnet and Judith followed in February 1585. Little is known about the relationship between William and Anne, besides that they often lived apart and he only bequeathed her his “second-best bed” in his will.

Shakespeare’s parents were probably illiterate, and his children almost certainly were.

Nobody knows for sure, but it’s quite likely that John and Mary Shakespeare never learned to read or write, as was often the case for people of their standing during the Elizabethan era. Some have argued that John’s civic duties would have required basic literacy, but in any event he always signed his name with a mark. William, on the other hand, attended Stratford’s local grammar school, where he mastered reading, writing and Latin. His wife and their two children who lived to adulthood, Susanna and Judith, are thought to have been illiterate, though Susanna could scrawl her signature.

Nobody knows what Shakespeare did between 1585 and 1592.

To the dismay of his biographers, Shakespeare disappears from the historical record between 1585, when his twins’ baptism was recorded, and 1592, when the playwright Robert Greene denounced him in a pamphlet as an “upstart crow.” The insult suggests he’d already made a name for himself on the London stage by then. What did the newly married father and future literary icon do during those seven “lost” years? Historians have speculated that he worked as a schoolteacher, studied law, traveled across continental Europe or joined an acting troupe that was passing through Stratford. According to one 17th-century account, he fled his hometown after poaching deer from a local politician’s estate.

Shakespeare’s plays feature the first written instances of hundreds of familiar terms.

William Shakespeare is believed to have influenced the English language more than any other writer in history, coining—or, at the very least, popularizing—terms and phrases that still regularly crop up in everyday conversation. Examples include the words “fashionable” (“Troilus and Cressida”), “sanctimonious” (“Measure for Measure”), “eyeball” (“A Midsummer Night’s Dream”) and “lackluster” (“As You Like It”); and the expressions “foregone conclusion” (“Othello”), “in a pickle” (“The Tempest”), “wild goose chase” (“Romeo and Juliet”) and “one fell swoop” (“Macbeth”). He is also credited with inventing the given names Olivia, Miranda, Jessica and Cordelia, which have become common over the years (as well as others, such as Nerissa and Titania, which have not).

We probably don’t spell Shakespeare’s name correctly—but, then again, neither did he.

Sources from William Shakespeare’s lifetime spell his last name in more than 80 different ways, ranging from “Shappere” to “Shaxberd.”


https://m.facebook.com/Twitt-India-Blog-1696544817228635/

Comments

Popular posts from this blog

क्या है ‘उद्योग आधार’ नंबर, छोटे कारोबारियों के लिए कैसे है फायदेमंद

सरकार ने कम पूंजी में अपना कारोबार
शुरू करने वालों के लिए रजिस्ट्रेशन कराना आसान
बना दिया है। इसके लिए सरकार ने उद्योग आधार
की शुरुआत की है। दरअसल यह सुविधा छोटे और
मध्यम दर्जे के कारोबारियों को मिलेगी। जिससे
कारोबारियों को रजिस्ट्रेशन कराने से लेकर के
प्रोडक्शन करने तक 11 जरूरी फॉर्म भरने के झंझट से
छुटकारा मिल जाएगी। क्योंकि माइक्रो, स्मॉल
एंड मीडियम इंटरप्राइजेज (एमएसएमई) मंत्रालय छोटे
और मझोले कारोबारियों को यह सुविधा मुफ्त में
मुहैया करा रही है। एमएसएमई मंत्रालय को उम्मीद है
कि ‘उद्योग आधार’ नंबर की शुरुआत ईज ऑफ डुइंग
बिजनेस के लिए एक बेहतर टूल साबित होगा। इसके
जरिए रजिस्ट्रेशन कराने के बाद कारोबारी सरकार
की योजनाओं का बेहतर लाभ उठा पाएंगे।
क्या है ‘उद्योग आधार ’ नंबर
छोटे और मध्यम दर्जे के कारोबारियों को नया
कारोबार शुरू करने के लिए ऑनलाइन अथवा
ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन कराने की जो सुविधा दी गई
है उसे ‘उद्योग आधार’ नाम दिया गया है। ताकि,
एमएसएमई के लिए कारोबार करना न केवल आसान
हो, बल्कि वे अपना करोबार को बढ़ाना भी चाहें
तो सरकार की ओर से उन्हें हरसंभव सहायता उपलब्ध
कराई जा सके। इसके तह…

जानिए, क्या है मोबाइल वॉलेट, इससे ट्रांजेक्शन कैसे है आसान...

भारत में जिस तरह ऑनलाइन शॉपिंग
का क्रेज बढ़ रहा है उसी तरह मोबाइल वॉलेट का
भी इस्तेमाल लगातार बढ़ रहा है। क्योंकि, इसके
जरिए ऑनलाइन शॉपिंग करते वक्त ग्राहकों को पेमेंट
करने में सुविधा होती है। इसकी वजह से परचेजिंग
करने वालों को खुले पैसे देने के झंझटों से छुटकारा
मिलता है। वहीं, मोबाइल वॉलेट के जरिए आप पैसा
किसी को देश के किसी भी हिस्से में भेज सकते हैं।
क्योंकि, इसके लिए आपको बैंक जाने की जरूरत नहीं
होती है। इसके अलावा इसकी वजह से कैश कैरी करने
की जरूरत नहीं पड़ती है।
आरबीआई के द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक
साल 2013-14 में कुल एक हजार करोड़ रुपए का लेनदेन
किया गया। लेकिन अगले 2 साल के भीतर यह
आकंड़ा आठ गुणा हो गया। साल 2014-15 में
मोबाइल वॉलेट के जरिए करीब 8,200 करोड़ रुपए का
लेनदेन किया गया।
क्या होता है मोबाइल वॉलेट
मोबाइल वॉलेट स्मार्ट फोन पर उपलब्ध एक डिजिटल
वॉलेट की सुविधा है। जहां रुपए को डिजिटल मनी
के रूप में स्टोर किया जाता है। खरीददारी के
दौरान इस वॉलेट के जरिए पेमेंट किया जाता है।
सामान्य शब्दों हम कह सकते हैं कि मोबाइल वॉलेट
एक डिजिटल पर्स की तरह है जिसके जरिए पैसे की
ले…

जानिए, क्या है WTO और इंटरनेशनल ट्रेड में इसकी भूमिका....

केन्या की राजधानी नैरोबी में वर्ल्ड
ट्रेड ऑर्गेनाइजेशन (डब्ल्यूटीओ) की 10वीं
मिनिस्टीरियल बैठक में हुई प्रगति को लेकर भारत
संतुष्ट नहीं है। क्योंकि स्टॉकहोल्डिंग, फूड
सब्सिडी जैसे विवादस्पद मुद्दों पर भी कोई प्रगति
संभव नहीं हुई। दोहा डेवलपमेंट एजेंडे (डीडीए) के
भविष्य को लेकर भी अनिश्चितता कायम है।
विकसित और विकासशील देशों के बीच इस तकरार
से एक बार फिर डब्ल्यूटीओ की भूमिका पर चर्चा
गरम हो गई है। आइए हम आपको डब्ल्यूटीओ के कार्य
और उद्देश्य के बारे में विस्तार से बताते हैं।
क्या है डब्ल्यूटीओ
वर्ल्ड ट्रेड ऑर्गेनाइजेशन ( डब्ल्यूटीओ) ट्रेड के मामले में
विश्व की प्रमुख संस्था है, जो सदस्य देशों के बीच
होने वाले व्यापार के नॉर्म्स तय करता है। नए
व्यापार समझौतों को लागू करने के साथ ही लिए
भी डब्ल्यूटीओ उत्तरदायी है। भारत भी डब्ल्यूटीओ
का एक सदस्य देश है।

डब्ल्यूटीओ की स्थापना
वर्ल्ड ट्रेड ऑर्गेनाइजेशन की स्थापना 15
अप्रैल, 1994 को जनरल एग्रीमेंट ऑन टेरिफ एंड
ट्रेड (गेट) के स्थान पर की गई थी। गेट
की स्थापना साल 1948 में तब हुई
थी, जब 23 देशों ने कस्टम टैरिफ कम करने के लिए
हस्ताक्षर किए थे। …

Support us

Total Pageviews

CONTACT

Name

Email *

Message *