Skip to main content

NUTRACEUTICALS: A NEW ERA OF HEALTH


The term ‘nutraceuticals’ was coined in the late 1980s to describe food products that have a medicinal benefit. This fast-growing sector includes functional foods (such as vitamin-enriched products), nutritional supplements, sport drinks, and medically formulated foods.
The link between food and health was established long ago. Nutraceuticals are often used in nutrient premixes or nutrient systems in the food and pharmaceutical industries.
Nutraceuticals cover a wide range of products, from sports drinks available on supermarket shelves to prescription drugs for patients with serious medical conditions.
Nutraceutical can be defined as, "a food (or part of a food) that provides medical or health benefits, including the prevention and/or treatment of a disease. The use of nutraceuticals, as an attempt to accomplish desirable therapeutic outcomes with reduced side effects, as compared with other therapeutic agents has met with great monetary success.
Some of the pharmaceutical and biotechnology companies, which commit major resources to the discovery of nutraceuticals include Monsanto, American Home Products, DuPont, Abbott Laboratories, Warner-Lambert, Johnson & Johnson, Novartis, Metabolex, Genzyme Transgenic, PPL Therapeutics, Interneuron.
The Asia Pacific nutraceuticals product market is growing on account of the growth in dietary supplements and functional food segments. Asia – Pacific nutraceuticals dietary supplement market will have high growth rate during the forecast period (from 2012 to 2017). The growth thrust for Asia – Pacific nutraceuticals dietary supplements market will primarily come from Herbals and Vitamins and Mineral product segments.
Nutraceuticals provides health benefits and helps in prevention and healing of diseases. The global nutraceuticals product market is primarily categorized on the basis of functional food, functional beverages and dietary supplements. The global market of nutraceutical is a growing on account of growth in dietary supplement segment. Some of the factors driving nutraceutical market are the increase in disposable income and conscious about one’s health. The spending on purchase of healthy and organic foods is on a rise thus giving a boost to the overall nutraceutical market. Some of the factors restraining the market growth are the lack of knowledge about the benefits of nutraceutical products and high prices of nutraceutical products.
According to a new market report published by Transparency Market Research “Nutraceuticals Product Market: Global Market Size, Segment and Country Analysis & Forecasts (2007-2017)”,

Global Nutraceutical Product market reached $142.1 billion in 2011 and is expected to reach $204.8 billion by 2017, growing at a CAGR of 6.3% from 2012 to 2017. Asia Pacific (including Japan) is expected to have the second largest market share after North America by 2017. In 2011, the Functional food and Beverage market reached $93.0 billion, registering a growth rate of 6.0% from 2007 to 2011. North America enjoyed the highest market share for nutraceutical products at $56.4 billion in 2011.

Comments

Popular posts from this blog

क्या है ‘उद्योग आधार’ नंबर, छोटे कारोबारियों के लिए कैसे है फायदेमंद

सरकार ने कम पूंजी में अपना कारोबार
शुरू करने वालों के लिए रजिस्ट्रेशन कराना आसान
बना दिया है। इसके लिए सरकार ने उद्योग आधार
की शुरुआत की है। दरअसल यह सुविधा छोटे और
मध्यम दर्जे के कारोबारियों को मिलेगी। जिससे
कारोबारियों को रजिस्ट्रेशन कराने से लेकर के
प्रोडक्शन करने तक 11 जरूरी फॉर्म भरने के झंझट से
छुटकारा मिल जाएगी। क्योंकि माइक्रो, स्मॉल
एंड मीडियम इंटरप्राइजेज (एमएसएमई) मंत्रालय छोटे
और मझोले कारोबारियों को यह सुविधा मुफ्त में
मुहैया करा रही है। एमएसएमई मंत्रालय को उम्मीद है
कि ‘उद्योग आधार’ नंबर की शुरुआत ईज ऑफ डुइंग
बिजनेस के लिए एक बेहतर टूल साबित होगा। इसके
जरिए रजिस्ट्रेशन कराने के बाद कारोबारी सरकार
की योजनाओं का बेहतर लाभ उठा पाएंगे।
क्या है ‘उद्योग आधार ’ नंबर
छोटे और मध्यम दर्जे के कारोबारियों को नया
कारोबार शुरू करने के लिए ऑनलाइन अथवा
ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन कराने की जो सुविधा दी गई
है उसे ‘उद्योग आधार’ नाम दिया गया है। ताकि,
एमएसएमई के लिए कारोबार करना न केवल आसान
हो, बल्कि वे अपना करोबार को बढ़ाना भी चाहें
तो सरकार की ओर से उन्हें हरसंभव सहायता उपलब्ध
कराई जा सके। इसके तह…

जानिए, क्या है मोबाइल वॉलेट, इससे ट्रांजेक्शन कैसे है आसान...

भारत में जिस तरह ऑनलाइन शॉपिंग
का क्रेज बढ़ रहा है उसी तरह मोबाइल वॉलेट का
भी इस्तेमाल लगातार बढ़ रहा है। क्योंकि, इसके
जरिए ऑनलाइन शॉपिंग करते वक्त ग्राहकों को पेमेंट
करने में सुविधा होती है। इसकी वजह से परचेजिंग
करने वालों को खुले पैसे देने के झंझटों से छुटकारा
मिलता है। वहीं, मोबाइल वॉलेट के जरिए आप पैसा
किसी को देश के किसी भी हिस्से में भेज सकते हैं।
क्योंकि, इसके लिए आपको बैंक जाने की जरूरत नहीं
होती है। इसके अलावा इसकी वजह से कैश कैरी करने
की जरूरत नहीं पड़ती है।
आरबीआई के द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक
साल 2013-14 में कुल एक हजार करोड़ रुपए का लेनदेन
किया गया। लेकिन अगले 2 साल के भीतर यह
आकंड़ा आठ गुणा हो गया। साल 2014-15 में
मोबाइल वॉलेट के जरिए करीब 8,200 करोड़ रुपए का
लेनदेन किया गया।
क्या होता है मोबाइल वॉलेट
मोबाइल वॉलेट स्मार्ट फोन पर उपलब्ध एक डिजिटल
वॉलेट की सुविधा है। जहां रुपए को डिजिटल मनी
के रूप में स्टोर किया जाता है। खरीददारी के
दौरान इस वॉलेट के जरिए पेमेंट किया जाता है।
सामान्य शब्दों हम कह सकते हैं कि मोबाइल वॉलेट
एक डिजिटल पर्स की तरह है जिसके जरिए पैसे की
ले…

जानिए, क्या है WTO और इंटरनेशनल ट्रेड में इसकी भूमिका....

केन्या की राजधानी नैरोबी में वर्ल्ड
ट्रेड ऑर्गेनाइजेशन (डब्ल्यूटीओ) की 10वीं
मिनिस्टीरियल बैठक में हुई प्रगति को लेकर भारत
संतुष्ट नहीं है। क्योंकि स्टॉकहोल्डिंग, फूड
सब्सिडी जैसे विवादस्पद मुद्दों पर भी कोई प्रगति
संभव नहीं हुई। दोहा डेवलपमेंट एजेंडे (डीडीए) के
भविष्य को लेकर भी अनिश्चितता कायम है।
विकसित और विकासशील देशों के बीच इस तकरार
से एक बार फिर डब्ल्यूटीओ की भूमिका पर चर्चा
गरम हो गई है। आइए हम आपको डब्ल्यूटीओ के कार्य
और उद्देश्य के बारे में विस्तार से बताते हैं।
क्या है डब्ल्यूटीओ
वर्ल्ड ट्रेड ऑर्गेनाइजेशन ( डब्ल्यूटीओ) ट्रेड के मामले में
विश्व की प्रमुख संस्था है, जो सदस्य देशों के बीच
होने वाले व्यापार के नॉर्म्स तय करता है। नए
व्यापार समझौतों को लागू करने के साथ ही लिए
भी डब्ल्यूटीओ उत्तरदायी है। भारत भी डब्ल्यूटीओ
का एक सदस्य देश है।

डब्ल्यूटीओ की स्थापना
वर्ल्ड ट्रेड ऑर्गेनाइजेशन की स्थापना 15
अप्रैल, 1994 को जनरल एग्रीमेंट ऑन टेरिफ एंड
ट्रेड (गेट) के स्थान पर की गई थी। गेट
की स्थापना साल 1948 में तब हुई
थी, जब 23 देशों ने कस्टम टैरिफ कम करने के लिए
हस्ताक्षर किए थे। …

Support us

Total Pageviews

CONTACT

Name

Email *

Message *