Skip to main content

ABOUT ACIDITY , symptoms and many more


Acidity is a term used for a set of
symptoms caused by excess production of
acid by the gastric glands of the stomach.
The stomach normally secretes
hydrochloric acid which is required for the
breakdown and digestion of food we eat.
Acidity causes symptoms like dyspepsia,
heartburn , gastric inflammation and ulcers
in the stomach.
Acidity is generally a consequence of
several external factors like eating
habits, fad diets , stress , smoking and
alcohol consumption, lack of physical
activity, irregularity in eating pattern. The
incidence of acidity is higher in countries
where individuals eat more of non-
vegetarian, oily and spicy foods. Certain
medications like non steroidal anti-
inflammatory drugs ( NSAID's )also
predisposes individuals to gastric acidity.
People suffering from acidity feel a burning
sensation after eating a meal. Sour
belching is also commonly seen.
Sometimes, constipation and indigestion is
also seen in people having acidity. Acidity
can be treated with antacids and mainly by
making changes in eating and lifestyle
habits. A new technique called endostism
can also provide relief from acid reflux.
This section offers some really good home
remedies for acidity which you can try. You
can also read the importance of having an
alkaline diet to reduce the symptoms of
acidity.
ACIDITY CONTENT
Causes
Symptoms
Treatment
Home remedies
Prevention
CAUSES
Our stomach produces gastric acids to aid
digestion. But, their corrosive effects are
neutralised by the production of natural
bicarbonate and prostaglandins secreted in
the mucous lining. When the production of
these chemicals is interrupted then it leads
to damaged stomach lining which causes
acidity .
1. Stress
2. Consumption of spicy and non-
vegetarian foods
3. Smoking and alcohol
4. Stomach ailments like peptic ulcers ,
gastroesophageal reflux disease ,
stomach tumors, etc.
5. Medications like non-steroidal anti-
inflammatory drugs.
Read more about why acidity is rising
among youngsters.
SYMPTOMS
The common signs and symptoms that you
might experience are -
1. Burning in the stomach
2. Burning in the throat
3. Restlessness
4. Belching
5. Nausea
6. Sour taste
7. Indigestion
8. Constipation
Here are 10 lifestyle tips to get rid of
acidity and heart burn.
TREATMENT
Usually, acidity is treated with the help of
antacids which contain either magnesium
or calcium or aluminium containing
compounds. These antacids neutralise the
excess acid in the stomach thus providing
relief from the symptoms. Read about
food dos and don’ts for acidity .
Sometimes, histamine blocking agents (H2
receptor blockers) such as cimetidine,
ranitidine, famotidine or nizatidine or
proton pump inhibitors such as omeprazole
and lansoprazole can also be prescribed by
your physician. In rare cases, surgery
(vagotomy) is performed to reduce the
acid sensation. Here’s how to relieve
indigestion,gas and irritable bowel
syndrome with yoga.
HOME REMEDIES
Here are 10 home remedies for acidity that
actually work -
Bananas
Tulsi
Cold milk
Saunf or aniseed
Jeera
Clove
Elaichi
Mint leaves or pudina
Ginger
Amla
Here’s how to use these home remedies
for acidity.
PREVENTION
Acidity can be prevented by the following
methods:
1. Don’t consume spicy food
(Read: Pickle with every meal – good
or bad? )
2. Eat more fruits and vegetables
3. Eat small, regular meals
4. Consume your last meal at least a few
hours before sleeping
5. Chew tulsi leaves, cloves, saunf, etc.
6. Avoid medications like NSAIDs (non-
steroidal anti-inflammatory drugs) and
steroids
7. Reduce stress

Comments

Popular posts from this blog

क्या है ‘उद्योग आधार’ नंबर, छोटे कारोबारियों के लिए कैसे है फायदेमंद

सरकार ने कम पूंजी में अपना कारोबार
शुरू करने वालों के लिए रजिस्ट्रेशन कराना आसान
बना दिया है। इसके लिए सरकार ने उद्योग आधार
की शुरुआत की है। दरअसल यह सुविधा छोटे और
मध्यम दर्जे के कारोबारियों को मिलेगी। जिससे
कारोबारियों को रजिस्ट्रेशन कराने से लेकर के
प्रोडक्शन करने तक 11 जरूरी फॉर्म भरने के झंझट से
छुटकारा मिल जाएगी। क्योंकि माइक्रो, स्मॉल
एंड मीडियम इंटरप्राइजेज (एमएसएमई) मंत्रालय छोटे
और मझोले कारोबारियों को यह सुविधा मुफ्त में
मुहैया करा रही है। एमएसएमई मंत्रालय को उम्मीद है
कि ‘उद्योग आधार’ नंबर की शुरुआत ईज ऑफ डुइंग
बिजनेस के लिए एक बेहतर टूल साबित होगा। इसके
जरिए रजिस्ट्रेशन कराने के बाद कारोबारी सरकार
की योजनाओं का बेहतर लाभ उठा पाएंगे।
क्या है ‘उद्योग आधार ’ नंबर
छोटे और मध्यम दर्जे के कारोबारियों को नया
कारोबार शुरू करने के लिए ऑनलाइन अथवा
ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन कराने की जो सुविधा दी गई
है उसे ‘उद्योग आधार’ नाम दिया गया है। ताकि,
एमएसएमई के लिए कारोबार करना न केवल आसान
हो, बल्कि वे अपना करोबार को बढ़ाना भी चाहें
तो सरकार की ओर से उन्हें हरसंभव सहायता उपलब्ध
कराई जा सके। इसके तह…

जानिए, क्या है मोबाइल वॉलेट, इससे ट्रांजेक्शन कैसे है आसान...

भारत में जिस तरह ऑनलाइन शॉपिंग
का क्रेज बढ़ रहा है उसी तरह मोबाइल वॉलेट का
भी इस्तेमाल लगातार बढ़ रहा है। क्योंकि, इसके
जरिए ऑनलाइन शॉपिंग करते वक्त ग्राहकों को पेमेंट
करने में सुविधा होती है। इसकी वजह से परचेजिंग
करने वालों को खुले पैसे देने के झंझटों से छुटकारा
मिलता है। वहीं, मोबाइल वॉलेट के जरिए आप पैसा
किसी को देश के किसी भी हिस्से में भेज सकते हैं।
क्योंकि, इसके लिए आपको बैंक जाने की जरूरत नहीं
होती है। इसके अलावा इसकी वजह से कैश कैरी करने
की जरूरत नहीं पड़ती है।
आरबीआई के द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक
साल 2013-14 में कुल एक हजार करोड़ रुपए का लेनदेन
किया गया। लेकिन अगले 2 साल के भीतर यह
आकंड़ा आठ गुणा हो गया। साल 2014-15 में
मोबाइल वॉलेट के जरिए करीब 8,200 करोड़ रुपए का
लेनदेन किया गया।
क्या होता है मोबाइल वॉलेट
मोबाइल वॉलेट स्मार्ट फोन पर उपलब्ध एक डिजिटल
वॉलेट की सुविधा है। जहां रुपए को डिजिटल मनी
के रूप में स्टोर किया जाता है। खरीददारी के
दौरान इस वॉलेट के जरिए पेमेंट किया जाता है।
सामान्य शब्दों हम कह सकते हैं कि मोबाइल वॉलेट
एक डिजिटल पर्स की तरह है जिसके जरिए पैसे की
ले…

जानिए, क्या है WTO और इंटरनेशनल ट्रेड में इसकी भूमिका....

केन्या की राजधानी नैरोबी में वर्ल्ड
ट्रेड ऑर्गेनाइजेशन (डब्ल्यूटीओ) की 10वीं
मिनिस्टीरियल बैठक में हुई प्रगति को लेकर भारत
संतुष्ट नहीं है। क्योंकि स्टॉकहोल्डिंग, फूड
सब्सिडी जैसे विवादस्पद मुद्दों पर भी कोई प्रगति
संभव नहीं हुई। दोहा डेवलपमेंट एजेंडे (डीडीए) के
भविष्य को लेकर भी अनिश्चितता कायम है।
विकसित और विकासशील देशों के बीच इस तकरार
से एक बार फिर डब्ल्यूटीओ की भूमिका पर चर्चा
गरम हो गई है। आइए हम आपको डब्ल्यूटीओ के कार्य
और उद्देश्य के बारे में विस्तार से बताते हैं।
क्या है डब्ल्यूटीओ
वर्ल्ड ट्रेड ऑर्गेनाइजेशन ( डब्ल्यूटीओ) ट्रेड के मामले में
विश्व की प्रमुख संस्था है, जो सदस्य देशों के बीच
होने वाले व्यापार के नॉर्म्स तय करता है। नए
व्यापार समझौतों को लागू करने के साथ ही लिए
भी डब्ल्यूटीओ उत्तरदायी है। भारत भी डब्ल्यूटीओ
का एक सदस्य देश है।

डब्ल्यूटीओ की स्थापना
वर्ल्ड ट्रेड ऑर्गेनाइजेशन की स्थापना 15
अप्रैल, 1994 को जनरल एग्रीमेंट ऑन टेरिफ एंड
ट्रेड (गेट) के स्थान पर की गई थी। गेट
की स्थापना साल 1948 में तब हुई
थी, जब 23 देशों ने कस्टम टैरिफ कम करने के लिए
हस्ताक्षर किए थे। …

Support us

Total Pageviews

CONTACT

Name

Email *

Message *