Skip to main content

कम खर्च मे नये बिज़नस की शुरवात करने के लिए कुछ आइडिया..



पैसा ज़िंदगी के लिए सबसे महत्वपूर्ण चीज है| हर व्यक्ति अपने जीवन के एक निश्चित समय के पश्चात उस दौर मे आता है, जब वह पैसा कमाने लगता है या पैसा कमाना चाहता है। आज कल हमारी पढ़ाई हमारा ज्ञान इस तरह का है कि हम सब के दिमाग मे कुछ न्यू आइडियास होते है| आजकल के युवाओ का कुछ नया करने का जुनून देखते ही बनता है। परंतु यह जरूरी नहीं है कि हम सब नया बिज़नेस शुरू करने के लिए सक्षम हो और अगर नये बिज़नेस की शुरूवात कर भी लेते है, तो उसे उसी तरह से चलाये रखना भी आसान बात नहीं है।
अगर कोई व्यक्ति अपना खुद का बिज़नेस स्टार्ट करना चाहता है तो उसके लिए जरूरत होती है अच्छी प्लानिंग की और बिज़नस शुरू करने के लिए पर्याप्त राशि की। इसका मतलब यह बिलकुल भी नहीं है कि आप कम पैसे मे अपना स्वयं का बिज़नेस स्टार्ट नहीं कर सकते । यहा हम कुछ बिज़नेस आइडियास की लिस्ट दे रहे है जिससे आप अपना स्वयम के बिज़नेस का शुभारंभ कम राशी मे भी कर सकते है।
रिक्रूटमेंट फ़र्म (Recruitment Firm):
रिक्रूटमेंट फ़र्म मतलब ऐसी कंपनी से है, जो युवाओ को उनकी रिलेटेड फील्ड मे जॉब दिलवाती है। अगर आप इस तरह के बिज़नेस के बारे मे सोचते है, तो आपको इसके लिए जरूरत होगी अपना नेटवर्क बनाने की । आज कल तो कई कंपनीया खुद इस तरह की फ़र्म को अपने लिए सही व्यक्ति हायर करने के कुछ रूपय कैंडिडैट की सैलरी मे से % के रूप मे देती है ।
रियल स्टेट कंसल्टेंसी (Real Estate Consulting) :
व्यक्ति जितना अधिक कमाता है, उतना ही वह इन्वेस्ट करता है और प्रोपर्टी मे इन्वेस्ट तो सबसे अधिक फायदे का सौदा है, और यदि कोई व्यक्ति अपनी प्रोपर्टी किसी रियल स्टेट फ़र्म की सहायता से खरीदता है, तो वह उसके लिए रियल स्टेट फ़र्म को प्रोपर्टी की कीमत का 1% या 2% अदा करता है| जो कि एक काफी अच्छी राशी होती है। सबसे अच्छी बात तो यह है कि किसी भी रियल स्टेट फ़र्म को स्टार्ट करने के लिए इनवेस्टमेंट राशी बहुत ही कम होती है।
ऑनलाइन मार्केटिंग (Online Shopping Portals):
यहा ऑनलाइन मार्केटिंग से मेरा मतलब किसी भी तरह की वस्तु जैसे महिलाओ के उपयोग की वस्तुए, किराने का सामान, कपड़े या अन्य कोई भी वस्तु आप ऑनलाइन सेल कर सकते है। इसमे फायदा यह होता है, कि आपको किसी तरह का स्टॉक नहीं रखना होता| आप ऑर्डर मिलने पर वस्तु लेकर पुनः सेल कर सकते है। इस तरह आप बड़े भारी इनवेस्टमेंट से बच जाते है।
ऑनलाइन ब्लॉगिंग और खुद की वैबसाइट बनाना (Blogging and Website) :
आज कल के समय मे यह सबसे अच्छा बिज़नेस है जिसे आप घर बैठे और अपने समय के अनुरूप काम करके पैसा कमा सकते है । इस बिज़नेस को स्टार्ट करने के लिए आवश्यक राशी बहुत कम जो कि वेबसाइट का नाम लेने के लिए आवश्यकता होती है। अगर आप अपनी होस्टिंग नहीं चाहते तो, आप गूगल ब्लोगेर का इस्तेमाल कर अपनी साईट सुरु कर सकते हैं| जिसमे बहुत सारी डिजाईन ब्लॉग के लिए उपलब्ध होती है| जिनका उपयोग कर आप लिखना सुरु कर सकते हैं| जैसे जैसे आपका ब्लॉग पोपुलर होगा आपकी कमी होने लगेगी|
इवैंट मेनेजमेंट फ़र्म (Event Management):
आज कल के समय मे हर कोई बहुत व्यस्त है और किसी के पास इतना समय नहीं है, कि वह अपने घर का हर कार्यक्रम खुद प्लान कर पाये। आज कल घर का कोई भी कार्यक्रम हो चाहे छोटा या बड़ा व्यक्ति चाहता है कि कोई और इसे प्लान कर दे । तो इवैंट मेनेजमेंट फ़र्म वो फ़र्म होती है जो कि किसी और के लिए उसका कार्यक्रम आयोजित करती है । और इसके बदले मे वह कुछ पैसे लेती है। यह भी एक तरह का बिज़नेस है, जिसमे इनवेस्टमेंट राशी बहुत ही कम होती है।
ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट (Training Institute):
आज कल के समय मे यह बिलकुल भी जरूरी नहीं है, कि किसी भी प्रकार का ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट स्टार्ट करने के लिए आप उस काम मे सक्षम हो। आप इसके लिए ट्रेनर बाहर से भी हायर कर सकते है और कम पैसे मे अपना बिज़नेस स्टार्ट कर सकते है।
ज्वेलरी बनाना (Jewel Making):
अगर आपको ज्वेलरी डिज़ाइन करने का थोड़ा भी आइडिया है, तो आप बहुत थोड़ा सा इन्वेस्ट करके इस बिज़नेस को बहुत अच्छे से सेट कर सकते है।
महिलाओ के लिए जिम :
आज कल के समय मे हर दूसरी महिला का वजन बड़ा हुआ है, तो महिलाओ के लिए जिम एक बहुत ही अच्छा आइडिया है। क्यूकि महिलाओ के लिए कम मशीनों के साथ भी जिम शुरू कर सकते है इसमे केवल कुछ जरूरी मशीनों की ही आवश्यकता होती है। इसलिए जिम मे इनवेस्टमेंट भी पुरुषो के जिम की अपेक्छा कम होता है।
मोबाइल फूड कोर्ट (Mobile Food Vendor):
आज कल के समय मे किसी के पास भी ज्यादा समय नहीं होता। इसलिए लोग होटल या रेस्टौरंट जाकर खाना खाने की अपेक्षा कई बार चाहते है, कि वे अपना खाना अपनी जगह पर ही ऑर्डर कर दे । इसलिए यह आज कल के टाइम मे यह बिज़नस का सबसे अच्छा आइडिया है।
वैडिंग प्लानर (Wedding Planner):
वैडिंग प्लानर मतलब किसी शादी का सारा इंतजाम अपने हाथो मे लेना| इसके बदले मे आपको अपने द्वारा किए गए इंतजाम के लिए पैसे मिलते है। क्यूकि आज कल के व्यस्त समय मे सब कुछ मैनेज करना कठिन होता है, जिसके कारण लोग इसे आउटसोर्स कर देते हैं| तो यह बिज़नेस का बहुत ही अच्छा आइडिया है।
कोचिंग इंस्टीट्यूट (Coaching):
अगर आपका किसी सब्जेक्ट मे नॉलेज बहुत अच्छा है, तो यह आपके लिए बेस्ट आइडिया है क्यूकी इस बिज़नेस मे किसी प्रकार के शुरुवाती इनवेस्टमेंट की आवश्यकता नहीं होती।
मैट्रीमोनी सर्विस : अगर आपके कांटैक्ट अच्छे है तो यह आपके लिए बेस्ट बिज़नस का आइडिया है।
योगा इन्स्ट्रक्टर (Yoga Instructor):
अगर आप पार्ट टाइम मे कोई बिज़नेस शुरू करना चाहते है, तो यह आपके लिए बेस्ट आइडिया है। अगर आपके पास इससे रिलेटेड सर्टिफिकेट नहीं है, तो आप कुछ कोर्सेस करके आसानी से इस तरह के सर्टिफिकेट पा सकते है और अपना बिज़नेस स्टार्ट कर सकते है।
इनटिरियर डिज़ाइनर (Interior Design: ) :
यह भी एक ऐसा कोर्स है, जिसका सर्टिफिकेट आप अपनी उम्र के किसी भी समय मे पा सकते है। बस जरूरत होती है इंटरेस्ट की| इसके बाद आप अपना स्वयं का बिज़नेस स्टार्ट कर सकते है।
ऑनलाइन किराना शॉप (Kirana or Grocery Store):
आज कल हर कोई चाहता है की उसके घर की जरूरत की चिजे उनके घर तक कोई पहुचा दे तो यह आपके लिए बेस्ट बिज़नस आइडिया है। इसमे फ़्यड़े की बात यह है की आपको बहुत ज्यादा मात्रा मे समान रखने की आवश्यकता नहीं होती।

Comments

Popular posts from this blog

क्या है ‘उद्योग आधार’ नंबर, छोटे कारोबारियों के लिए कैसे है फायदेमंद

सरकार ने कम पूंजी में अपना कारोबार
शुरू करने वालों के लिए रजिस्ट्रेशन कराना आसान
बना दिया है। इसके लिए सरकार ने उद्योग आधार
की शुरुआत की है। दरअसल यह सुविधा छोटे और
मध्यम दर्जे के कारोबारियों को मिलेगी। जिससे
कारोबारियों को रजिस्ट्रेशन कराने से लेकर के
प्रोडक्शन करने तक 11 जरूरी फॉर्म भरने के झंझट से
छुटकारा मिल जाएगी। क्योंकि माइक्रो, स्मॉल
एंड मीडियम इंटरप्राइजेज (एमएसएमई) मंत्रालय छोटे
और मझोले कारोबारियों को यह सुविधा मुफ्त में
मुहैया करा रही है। एमएसएमई मंत्रालय को उम्मीद है
कि ‘उद्योग आधार’ नंबर की शुरुआत ईज ऑफ डुइंग
बिजनेस के लिए एक बेहतर टूल साबित होगा। इसके
जरिए रजिस्ट्रेशन कराने के बाद कारोबारी सरकार
की योजनाओं का बेहतर लाभ उठा पाएंगे।
क्या है ‘उद्योग आधार ’ नंबर
छोटे और मध्यम दर्जे के कारोबारियों को नया
कारोबार शुरू करने के लिए ऑनलाइन अथवा
ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन कराने की जो सुविधा दी गई
है उसे ‘उद्योग आधार’ नाम दिया गया है। ताकि,
एमएसएमई के लिए कारोबार करना न केवल आसान
हो, बल्कि वे अपना करोबार को बढ़ाना भी चाहें
तो सरकार की ओर से उन्हें हरसंभव सहायता उपलब्ध
कराई जा सके। इसके तह…

जानिए, क्या है मोबाइल वॉलेट, इससे ट्रांजेक्शन कैसे है आसान...

भारत में जिस तरह ऑनलाइन शॉपिंग
का क्रेज बढ़ रहा है उसी तरह मोबाइल वॉलेट का
भी इस्तेमाल लगातार बढ़ रहा है। क्योंकि, इसके
जरिए ऑनलाइन शॉपिंग करते वक्त ग्राहकों को पेमेंट
करने में सुविधा होती है। इसकी वजह से परचेजिंग
करने वालों को खुले पैसे देने के झंझटों से छुटकारा
मिलता है। वहीं, मोबाइल वॉलेट के जरिए आप पैसा
किसी को देश के किसी भी हिस्से में भेज सकते हैं।
क्योंकि, इसके लिए आपको बैंक जाने की जरूरत नहीं
होती है। इसके अलावा इसकी वजह से कैश कैरी करने
की जरूरत नहीं पड़ती है।
आरबीआई के द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक
साल 2013-14 में कुल एक हजार करोड़ रुपए का लेनदेन
किया गया। लेकिन अगले 2 साल के भीतर यह
आकंड़ा आठ गुणा हो गया। साल 2014-15 में
मोबाइल वॉलेट के जरिए करीब 8,200 करोड़ रुपए का
लेनदेन किया गया।
क्या होता है मोबाइल वॉलेट
मोबाइल वॉलेट स्मार्ट फोन पर उपलब्ध एक डिजिटल
वॉलेट की सुविधा है। जहां रुपए को डिजिटल मनी
के रूप में स्टोर किया जाता है। खरीददारी के
दौरान इस वॉलेट के जरिए पेमेंट किया जाता है।
सामान्य शब्दों हम कह सकते हैं कि मोबाइल वॉलेट
एक डिजिटल पर्स की तरह है जिसके जरिए पैसे की
ले…

जानिए, क्या है WTO और इंटरनेशनल ट्रेड में इसकी भूमिका....

केन्या की राजधानी नैरोबी में वर्ल्ड
ट्रेड ऑर्गेनाइजेशन (डब्ल्यूटीओ) की 10वीं
मिनिस्टीरियल बैठक में हुई प्रगति को लेकर भारत
संतुष्ट नहीं है। क्योंकि स्टॉकहोल्डिंग, फूड
सब्सिडी जैसे विवादस्पद मुद्दों पर भी कोई प्रगति
संभव नहीं हुई। दोहा डेवलपमेंट एजेंडे (डीडीए) के
भविष्य को लेकर भी अनिश्चितता कायम है।
विकसित और विकासशील देशों के बीच इस तकरार
से एक बार फिर डब्ल्यूटीओ की भूमिका पर चर्चा
गरम हो गई है। आइए हम आपको डब्ल्यूटीओ के कार्य
और उद्देश्य के बारे में विस्तार से बताते हैं।
क्या है डब्ल्यूटीओ
वर्ल्ड ट्रेड ऑर्गेनाइजेशन ( डब्ल्यूटीओ) ट्रेड के मामले में
विश्व की प्रमुख संस्था है, जो सदस्य देशों के बीच
होने वाले व्यापार के नॉर्म्स तय करता है। नए
व्यापार समझौतों को लागू करने के साथ ही लिए
भी डब्ल्यूटीओ उत्तरदायी है। भारत भी डब्ल्यूटीओ
का एक सदस्य देश है।

डब्ल्यूटीओ की स्थापना
वर्ल्ड ट्रेड ऑर्गेनाइजेशन की स्थापना 15
अप्रैल, 1994 को जनरल एग्रीमेंट ऑन टेरिफ एंड
ट्रेड (गेट) के स्थान पर की गई थी। गेट
की स्थापना साल 1948 में तब हुई
थी, जब 23 देशों ने कस्टम टैरिफ कम करने के लिए
हस्ताक्षर किए थे। …

Support us

Total Pageviews

CONTACT

Name

Email *

Message *